ताती ताती तोता
पिंजरे में सोता
पंख जो हरे थे
उड़न से भरे थे
हो गये हैं पीले
पड़ गये हैं ढीले
ताती ताती तोता।
ताती ताती तोता
पिंजरो में रोता
झांखते हैं प्यारे
नन्हें नन्हें तारे
कहते है तोता
काहे को तू रोता
अंधकार छोड़ दे
पिंजरो को तोड़ दे
उड़ते उड़ते सारी रात
आके मिल जा अपने साथ
छोटे भाई तोता प्यारा
तू भी बन जा एक सितारा

बच्चों के लिए हिन्दी कविता
Hindi poem for children