बात सात सौ साल पुरानी
सुनो ध्यान से प्यारे
हैम्लिन नामक एक शहर था
वीजर नदी किनारे।

32_1

यूं तो शहर बहुत सुन्दर था
हैम्लिन जिसका नाम
मगर वहां के लोगों का
हो गया था चैन हराम।
इतने चूहे इतने चूहे
गिनती हो गई मुश्किल
जिधर भी देखो जहां भी देखो
करते दिखते किल बिल।

32_2

बाहर चूहे घर में चूहे
दरवाजे और दर में चूहे
खिड़की और आलों में चूहे
थालों और प्यालों में चूहे।
ट्रंक में और संदूक में चूहे
फौजी की बंदूक में चूहे
अफसर की गाड़ी में चूहे
नौकर की दाढ़ी में चूहे।
पूरब पश्चिम उत्तर दक्षिण
जिधर भी देखो चूहे
ऊपर नीचे आगे पीछे
जिधर भी देखो चूहे।
दुबले चूहे मोटे चूहे
लंबे चूहे छोटे चूहे
काले चूहे गोरो चूहे
भूखे और चटोरो चूहे।

32_3

चूहे भी वो ऐसे चूहे
बिल्ली को खा जाए
चीले जान बचाएं।
चूहो से घबराकर राजा ने किया ऐलान
जो उनसे पीछा छुटवाये
पाये ढ़ेर ईनाम।

32_4

सुनकर ये ऐलान वहां पर
पहुंचा एक मदारी
मस्त कलंदर नाम था उसका
मुंह पर लंबी दाढ़ी।
झोले से बंसी निकालकर
मीठी तान बजाई
जिसको सुनकर चूहा सेना
दौड़ी दौड़ी आई।

32_5

कोनों खुदरों से निकले
और निकले महल अतारी से
नाले नाली से निकले
और निकले बक्सपिटारी से।
घर की चौखट को फलांगकर
आये ढेरों चूहें
छत के ऊपर से छलांग कर
आये ढ़ेरों चूहे।
लाखों चूहों का जलूस
चल पड़ा मदारी के पीछे
जैसे कोई डोरी उनको
लिये जा रही हो खींचे।
आगे आगे चला मदारी
पीछो चूहे सारे
चलते चलते वो जा पहुंचे
वीज़र नदी किनारे।
वहां पहुंच कर भी ना ठहरा
वो छह फुटा मदारी
उतर गया दरिया के अन्दर
पीछे पलटन सारी।
ले गया मदारी सब चूहों को
वीज़र नदी के अंदर
एक भी जिंदा नहीं बचा
सब डूबे नदी के अन्दर।

32_6

चूहों को यूं मार मदारी
राजा के घर आया
अपने इनाम का वादा उसको
फौरन याद दिलाया।
राजा बोलाः क्या कहते हो
मिस्टर मस्त कलंदर
चूहे तो खुद ही जा डूबे
वीज़र के अन्दर।
कौन सा तुमने कद्दू में
मारा है ऐसा तीर
जिसके कारण पुरस्कार
दे तुमको मस्त फकीर
देखके ऐसी मक्कारी
वो रह गया हक्काबक्का
उसके भोले मन को इससे
लगा जोर का धक्का।
गुस्से से हो आगबबूला
महल से बाहर आया
थैले से बंसी निकाल कर
सुंदर राग बजाया।
सुनकर उसकी बंसी की धुन
बच्चे दौड़े आये।

32_7

लम्बे बच्चे, छोटे बच्चे
दुबले बच्चे, मोटे बच्चे
दूर के बच्चे, पास के बच्चे
साधारण और खास से बच्चे।
हंसते बच्चे, रोते बच्चे
जाग रहे और सोते बच्चे
गांव, मुहल्ले, डगर के बच्चे।
लाखों बच्चों का जमघट
चल पड़ा मदारी के पीछे
जैसे कोई जादू, उनको
लिए जा रहा हो खींचे।
ले गया दूर शहर से उनको
वो छह फुटा मदारी
नहीं रोक पाई बच्चों को
नगर की जनता सारी।
बिगड़ गयी हैम्लिन की जनता
पहुंची राजा के द्वारे
बोलीः तेरी बेईमानी से
बच्चे गए हमारे।
नहीं चाहिए ऐसा राजा
करता जो मनमानी
वादा करके झुठला देता
ये कैसी बेईमानी।
राजा से गद्दी छीनी
दे डाला देश निकाला

32_10

और हैम्लिन का राज पाट
खुद जनता ने ही संभाला।
नये राज ने मस्त मदारी
को फौरन बुलवाया
माफी मांगी और मुंहमांगा
पुरस्कार दिलवाया।
सारे बच्चे वापस पहूंचे
अपने अपने घर पे
पूरे शहर में खुशी मनी
और दीये जले दर दर पे।

32_11

बच्चों के लिए हिन्दी कविता
Hindi poem for children by Safdar Hashmi; Illustrations by Arpita Singh. Published by SAHMAT.