Home Authors Posts by Hakku Shah

Hakku Shah

1 POSTS 0 COMMENTS

चंपा

चंपा
मोर बोला, चंपा, चंपा, तू अपने चंपा को कपड़े क्यों नहीं पहनाती तू भी अजीब है पोलीएस्टर और नायलोन डेकोन और टेरीकोट, मुझे समझाती है तूने शायद मेरा रूप नहीं देखा, अरे हां, तूने अपना रूप देखा ही कहां है ड्रेस के नीचे अपना सूंदर पेट कभी देखा है अपने मोजों के भीतर का पैर कभी देखा है, नहीं, चंपा नहीं उन कपड़ों में सांस घुटती है, उन कपड़ों में काया सड़ती है, उन कपड़ों से बू...

Popular

Featured