Home Authors Posts by Sarveshwar Dayal Saksena

Sarveshwar Dayal Saksena

1 POSTS 0 COMMENTS

बतूता का जूता

बतूता का जूता
इब्न बतूता पहन के जूता निकल पड़े तूफान में थोड़ी हवा नाक में घुस गई घुस गई थोड़ी कान में। कभी नाक को कभी कान को मलते इब्न बतूता इसी बीच में निकल पड़ा उनके पैरों का जूता। उड़ते उड़ते जूता उनका जा पहुंचा जापान में इब्न बतूता खड़े रह गये मोची की दुकान मेंबच्चों के लिए हिन्दी कविता Hindi poem for children first published by National Book Trust

Popular

Featured