बबलू बहुत देर से अपनी बहन से झगड़ रहा था। बहन उससे बड़ी थी और काफी देर से सब्र कर रही थी। आखिर उसे गुस्सा आ गया। बोली चुप करता है या नहीं, वरना मार मार कर भरता बना दूंगी।

बबलू सिर्फ झगड़ालू ही नहीं खाने का भी बड़ा शौकीन था। उसने भरता सुनते ही बहन की जुबान पकड़ ली, अरे वाह! भरता तो मुझे बेहद पसंद है। बैंगन का भरता गरमा गरम पराठे के साथ। बहन ने समझ लिया कि अपने पाजी भाई से जीतने वाली वह नहीं। उसने ही सुलह करने की पहल की। पेटु राम, जब देखो तब खाने की सूझती है। अच्छा यह बताओ भरता खाना है बैंगन का। बबलू इतनी आसानी से समझौता करने वाला जीव नहीं था। उसने कहा, मुझे बैंगन का भरता थोड़ी खाना है मुझे तो बघार के बैंगन ज्यादा पसन्द है।

4_1

इसी बीच बच्चों की मां कमरे में आ पहुंची। पहले तो वह झगड़ा शान्त कराने के इरादे से निकली थी पर बघार के बैंगनों का जिक्र सुनते ही वह भी पहेलियां बुझाने लगी… बघार के बैंगन सिर्फ पसंद ही हैं या यह भी पता है कि बनते कहां है। इससे पहले कि बड़ी बहन बाजी मार ले जाए बबलू ने अंताक्षरी में हिस्सा लेने वाले प्रतियोगी की तरह उतावली से उत्तर दिया। हैदराबाद में, हैदराबाद में… बघार के बैंगन वहीं बनते हैं और इनमें इमली की खटास होती है और…। बहन ने नाक भौंह सिकोड़ते हुए भाई को चिढ़ाना जारी रखा। मुझे तो बैंगन बिल्कूल नहीं भाते ना भरता, ना बघार वाले। तुझे याद नहीं अकबर बीरबल वाली कहानी में शहंशाह अकबर ने बैंगन को क्या नाम दिया था। बैंगन, जिसमें कोई भी गुण नहीं होता।

बबलू ने नहले पर दहला जड़ने वाले अंदाज में कहा, और यह क्यों भूल रही हो शहंशाह अकबर ने भी बैंगन के ज़ायके से खुश होकर बीरबल से यह कहा था कि देखो यह सब्जी सब सब्जियों की शाह है तभी तो इसके सिर पर ताज है। बहन अब तक टक्कर लेने के लिए तैयार हो चुकी थी बोली… बीरबल का क्या, बिल्कुल थाली के बैंगन थे। जिधर थाली झुकाई उधर लुढ़क चले।

बच्चों की बातों में मां को भी मजा आने लगा था। उनसे बिना टोके नहीं रहा गया… लड़की अभी भी अपनी ज़िद पर डटी रही… जो भी कहो मुझे तो भरता पसंद नहीं और न ही बघार के बैंगन। बबलू इतनी आसानी से पीझा छोड़ने वाला नहीं था… और उस दिन पिकनिक में भरवां अचारी बैंगन लपक लपक कर कौन खा रहा था।

4_2मुझे तो आधा ही पीस मिला। मां ने फिर बीच बचाव किया और कहा… देखो यह सब्जी वाकई में कितनी निराली है… जाने कितने ढंग से देश के अलग अलग हिस्सों में पकाई जाती है। पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार में लोग इसे तंदूर में या कोयले में भून भून कर कच्चे सरसों के तेल में सान कर भाजा बनाते हैं। उड़ीसा में भी इसे चाव से खाते हैं। हैदराबाद, आंध्र में, साथ ही कई और जगह इमली, गुड़ और पिसी मुंगफली के साथ इसे बघार वाली शक्ल में देखा जा सकता है। तमिलनाडु में छोटे छोटे बैंगनों को सांभर में भी डालने का रिवाज है। बहन बोली… और अचारी बैंगनों को तो तुम भूल ही गई। मां हंसने लगी। भूली नहीं मुझे पता है वही तुझे सबसे ज्यादा पसंद है। लम्बे बैंगनों को चार फांक चीर सौंफ, कालौंजी, मेथी और अमचूर से भर, उसने कहा दौड़ेंगे।

बैंगन | eggplant
बैंगन. Source:
RebeccaVC1. https://flic.kr/p/8tq1vU

Filed under: Hindi stories, Hindi story | बच्चों की हिन्दी कहानियाँ