Home Tags हिन्दी कविता

Tag: हिन्दी कविता

नानी की नाव

नाव चली नाव चली नानी की नाव चली नीना की नानी की नाव चली लम्बे सफर पे सामान घर से निकाले गए नानी के घर से निकाले गए और नानी की नाव में डाले गए क्या क्या डाले गए एक छड़ी, एक घड़ी एक झाड़ू, एक लाड़ू एक सन्दूक, एक बन्दूक एक सलवार, एक तलवार एक घोड़े की जीन एक ढोलक एक बीन एक घोड़े की नाल एक घीमर का जाल एक लहसून, एक आलू एक तोता,...

पेड़

आओ इस जंगल में आओ मत घबराओ मैं इस जंगल का एक पेड़ तुम्हें बुलाता हूं अपनी कथा सुनाता हूं आओ अपने साथियों से मिलवाता हूं आओ, छूकर देखो मेरा तना सीधा और मज़बूत और ऊपर मेरी पतली बल खाती शाखों को देखो देखो अनगिनत टहनियों को क्या पूछते हो मेरे दोस्त वो तो पिछले पतझड़ में गिर गए लेकिन जल्द ही फिर निकल आएंगे मेरी डालियों पर लद जाएंगे। मेरी जड़े नहीं दिखती तुम्हें लेकिन वे...

बन्दर मामा

एक पेड़ पर नदी किनारे, बन्दर मामा रहते थे। वर्षा गर्मी सर्दी उसी पेड़ पर रहते थे। भूख मिटाने को बगिया से चुन चुन फल खाया करते। य़ा छीन झपट बच्चों से ये चीजें ले आया करते। खा पी सेठ हुए मामा जी, झूम झूम इठलाते थे। और नदी के मगर मौसिया देख देख ललचाते थे। सोचा करते अगर कहीं मैं मोटूमल को पा जाऊं। बैठ किनारे रेत के ऊपर खूब मजे से खाऊं। एक...

अमरूद बन गये

आमों के अमरूद बन गये अमरूदों के केले मैंने यह सब कुछ देखा है आज गया था मेले बकरी थी बिलकुल छोटी सी हाथी की थी बोली मगर जुखाम नहीं सह पाई खाई उसने गोली छत पर होती थी खों खों खों मगर नहीं था बंदर बिल्ली ही यों बोल रही थी परसो मेरी छत पर गाय नहीं करती थी बां बां बोली वह अंगरेजी कहा बैल से, भूसा खालो देखा भालो, ए जी मुझको...

Popular

Featured