ना धिन धिन्ना
पढ़ते हैं मुन्ना
ताता थैया
आ जा भैया
ता थई ता थई
ना भई ना भई
धिरकिट धा तू
सिर मत खा तू
धीं तृक धीना
झटपट रीना
धा-धा-धा-धा
अब क्या होगा
धिरकिट धिरकिट
गिरगिट गिरगिट
धा धीना धीना धीना
वो देखो दीनू बीना
धा धीना नाती नक
भैया गया है थक
धन-धिन्ना धा धिनक
इमली गई है पक
ना तिन्ना तिरकिट तान
कहना तू मेरा मान
धिरकिट धिरकिट धिन
जाऊंगा मैं वहां
तिरकिट तिरकिट तिन ता
चल जा तू झटपट आ
ना तिन तिन्ना ना धिन धिन्ना
बस्ता पटक कर दौड़े मुन्ना
धागे तिरकिट तूना भागे सरपट दीनू
टिल्लू रीना मीना

44_2

बच्चों के लिए हिन्दी कविता
Hindi poem for children first published by National Book Trust